Anyokti Alankar Kise Kahate Hain – अन्योक्ति अलंकार की परिभाषा, भेद और उदाहरण 

Hindi Grammar

Anyokti Alankar In Hindi – आज हम यहां पर पढ़ने वाले हैं Anyokti Alankar Kise Kahate Hain, Anyokti Alankar कितने प्रकार के होते हैं Anyokti Alankar विषय के ऊपर यहां पर सभी जानकारी दी गई है जो छात्र स्कूल में पढ़ाई कर रहे हैं, उनके लिए यह पोस्ट उपयोगी है। Anyokti Alankar की सरल परिभाषा उदाहरण सहित यहां बताई गयी हैं

Definition Of Anyokti Alankar In Hindi – अन्योक्ति अलंकार की परिभाषा

वह अलंकार जिसमे कोई बात सीधे तरीके से नहीं बताई जाती वह किसी माध्यम से बताई जाती है उसे Anyokti Alankar कहते हैं

सरल शब्दों में यदि कोई बात जो सीधे तरीके से नहीं बताई जाती, बहुत घुमा – फिरा कर प्रकट की जाती है अर्थात किसी माध्यम से बताई जाती है उसे अAnyokti Alankar कहते हैं। 

Examples Of Anyokti Alankar In Hindi -अन्योक्ति अलंकार के उदाहरण

1.माली आवत देखकर पुष्प करी पुकारी ।

गुलाब खिले चुन लिए कली हमारी बारि ।

2. नही पराग नही मधौर मधु नही विकास इहि काल ।

 अली फूल ही सो बंध्यो, आगे कौन हवाल ।

3. जिन दिन देखे वे चमेली , गई सुबीति बहार।

अब अलि रही गेंदा में, अपत कँटीली डार।।

Conclusion : Anyokti Alankar में कथन कुछ और होता है और निशाना कहीं और पर लगाया जाता है क्योंकि इसमें स्पष्ट के साथ कोई बात सीधा तरीके से नहीं बताई जाती किसी माध्यम से होती है यह Anyokti Alankar के अंतर्गत आते हैं। 

FAQs About Anyokti Alankar In Hindi

Q1. अन्योक्ति अलंकार का क्या अर्थ होता है ?

Ans : अन्योक्ति अलंकार का अर्थ होता है – माध्यम, घुमा – फिरा कर बात प्रकट करना। 

Q2. अन्योक्ति अलंकार के उदाहरण बताइए ?

Ans : करि फुलेल को आचमन मीठो कहत सिहाइ ।

            गंधी मतिमंद तू इतर दिखावत काहि ।

Q3. अन्योक्ति अलंकार की पहचान क्या है ?

Ans : उन  काव्य शास्त्र में जहां पर युक्ति के माध्यम से कोई बात बताई जाती है वह अन्योक्ति अलंकार की पहचान होती है। 

Leave a Comment