Deergh Swar Sandhi Kise Kahate Hain – दीर्ध स्वर सन्धि की परिभाषा, भेद और उदाहरण 

Hindi Grammar

Deergh Swar Sandhi In Hindi – आज यहां पर हम Deergh Swar Sandhi से जुड़ी हुई जानकारी देने वाले हैं जो लोग जानना चाहते हैं की Deergh Swar Sandhi Kise Kahate Hain और Deergh Swar Sandhi कितने प्रकार की होती है और उनके उदाहरण क्या होते हैं इसके लिए वह इस पोस्ट Deergh Swar Sandhi In Hindi को पूरा पढ़ सकते हैं। 

Definition Of ‎Deergh Swar Sandhi In Hindi – दीर्ध स्वर सन्धि की परिभाषा 

Deergh Swar Sandhi स्वर के अक्षरों पर आधारित होती है दीर्घ जैसे अ, आ, इ, ई, और अथवा दीर्घ अ, आ, इ, ई, और ऋ स्वर आते हैं तो दोनों मिलकर दीर्घ आ, ई, ऊ और ऋ बन जाते हैं जब यह परिवर्तन इन में दीर्घ में आता है तो इसके अंतर को संधि Deergh Swar Sandhi कहते हैं। 

सरल शब्दों में कह सकते हैं जब स्वर आसपास होते हैं तो उनसे जो स्वर बनता है या उनमें कोई परिवर्तन आता है उसे Deergh Swar Sandhi कहते हैं दीर्घ स्वर संधि को ह्रस्व संधि भी कहते हैं

Examples Of Deergh Swar Sandhi In Hindi – दीर्ध स्वर सन्धि के उदाहरण

मत + अनुसारमतानुसार
वेद + अंतवेदांत
परम + अर्थपरमार्थ
धर्म + अधर्मधर्माधर्म
अन्न + अभावअन्नाभाव

Conclusion : दीर्घ स्वर संधि के अंतर्गत जो छोटे स्वर होते हैं वह बड़े स्वर में परिवर्तित हो जाते हैं जब यह परिवर्तन स्वर में होता है तो स्वरों की वृद्धि होती है उसे वृद्धि को ही Deergh Swar Sandhi बोला जाता है। 

FAQs About ‎Deergh Swar Sandhi In Hindi

Q1. दीर्घ स्वर संधि का दूसरा नाम क्या है ?

Ans : दीर्घ स्वर संधि का दूसरा नाम ह्रस्व संधि है। 

Q2. दीर्घ स्वर संधि के नियम क्या है ?

Ans : जब दो स्वरों को मिलाया जाता है अंत में जो स्वर बनता है वह दीर्घ स्वर संधि का परिवर्तित नियम कहलाता है। 

Q3. दीर्घ स्वर संधि के उदाहरण बताइए ?

Ans : शिव + आलय – शिवालय

Leave a Comment